शहर में सक्रिय रहा है जाली नोटों का गिरोह, कम उम्र के लड़के-लड़कियां है गैंग में

Fri, 11 Nov 2016 03:26:00 GMT

नागपुर .जाली नोटों का चलन नागपुर में बड़े पैमाने पर रहा है। यहां अंतरराज्यीय ही नहीं अंतरराष्ट्रीय गिरोह के सदस्य भी पकड़े गए हैं। जाली नोटों में 1000 व 500 के नोट सबसे अधिक शामिल रहे हैं। पुराने नोटों का चलन बंद करने से जाली नोटों का कारोबार भी प्रभावित होगा। शहर पुलिस ने िपछले कुछ वर्षों में की छापेमारी में जो तथ्य सामने आए हैं, उसके मुताबिक जाली नोटों को गिरोह विविध स्तर पर कार्य करता रहा है।
 
 
- सबसे अधिक सक्रियता बांग्लादेश के मालदा के गिरोह की रही है। जरीपटका, पांचपावली, गिट्टीखदान, यशोधरानगर, कलमना , नंदनवन के अलावा आऊटर रोड से लगे पुलिस थाना क्षेत्र में इनकी सबसे अधिक संख्या होती है।
- जाली नोटों के विविध मामले लड़ चुके अधिवक्ता राजेंद्र डागा के मुताबिक शहर में किराना व दूध केंद्र के अलावा अन्य छोटी दुकानों तक जाली नोट आसानी से पहुंचाये जाते रहे हैं।
- एक प्रकरण का हवाला देते हुए वे कहते हैं िक जाली नोट स्थानीय स्तर पर भी बनाए जाते हैं। चंद्रपुर के होटल में जाली नोटों के 10 आरोपियों को पकड़ा गया था। 70 लाख बरामद किए गए थे।
- आरोपियों ने...   Read More...

International News

Entertainment

FREE!!! Registration