ये हैं बिहार के सबसे कम उम्र के जादूगर, ऐसे की थी अपने करियर की शुरुआत

Sun, 26 Mar 2017 23:52:00 GMT

पटना. हुआ यूं कि बातों ही बातों में हमारे हाथ से कलम गायब हो गई और उंगली से अंगूठी। हम बिहार के सबसे कम उम्र 18 साल के जादूगर प्रतीक से उसकी जादूगरी के बारे में बात कर रहे थे। प्रतीक का जन्म पटना में हुआ। पढ़ाई-लिखाई डॉन बॉस्को एकेडमी से हुई। बिहार बोर्ड सेे प्रतीक ने प्लस टू किया है। तीन साल का रहा होगा तब उसके पिता सुनील कुमार डालमिया गांधी मैदान में लगे डिज्नीलैंड मेला घुमाने ले गए। वहां एक स्टॉल लगा था दो मिनट में जादू सीखें। आठवीं क्लास में पहली बार किया था परफार्म...
 
- प्रतीक ने पिता से जिद कर एक जादू ट्रिक खरीद लिया जिसमें फूल का रंग बदल जाता था। वह फूल का रंग बदल-बदल कर अपनी दीदी, पड़ोसियों और दोस्तों को दिखाते रहे।
- सबसे वाहवाही मिलने के बाद उसने एक-दो और ट्रिक खरीदे। जादू की जादूगरी, उसका सम्मोहन प्रतीक के सपने को भी सम्मोहित करने  लगा।
- उसने तय किया कि उसका सपना अब जादूगरी के सफर पर ही निकलेगा। उसने यूट‌्यूब को अपना पहला गुरु बनाया। कई ट्रिक्स सीखे। लगातार मेहनत की। पांच साल संजीदगी, साधना और समर्पण से अभ्यास करते रहे। 
- एकाग्रता बढ़ाई,...   Read More...

International News

Entertainment

FREE!!! Registration