मुद्रा लोन के नाम पर हो रही है ठेकेदारी, उद्योग आधार का फार्म है फर्जी

Mon, 29 Feb 2016 13:12:00 GMT

पटना. राजधानी में उद्योग आधार बनवाने में फर्जीवाड़ा का मामला सामने आया है। अवैध एजेंसियां  बजाप्ता विज्ञापन देकर उद्योग आधार बनवाने की ठेकेदारी ले रहे हैं। इसके लिए नए उद्यमियों से 100 से 250 रूपये तक वसूले जा रहे हैं। 
क्या है मामला 
केंद्र सरकार ने कम पूंजी में अपना कारोबार शुरू करने वालों को यूनिक पहचान देने के लिए बीते वर्ष सितंबर में उद्योग आधार जारी करने का निर्णय लिया था। इसमें ऑनलाइन पंजीकरण ही होता है, दूसरा कोई विकल्प नहीं है। 
चूंकि माइक्रो, स्मॉल एंड मीडियम इंटरप्राइजेज (एमएसएमई) मंत्रालय छोटे और मझोले कारोबारियों को यह सुविधा मुफ्त में मुहैया कराती है। इसलिए ऐसे किसी भी सेवा के लिए कोई भी बिचौलिये को पैसा  देने की जरूरत नहीं है। हां, यदि कुछ समझना हो या कोई दिक्कत हो तो स्थानीय एमएसएमई में संपर्क किया जा सकता है जहां अधिकारी मदद को तैयार हैं।
उद्योग आधार का फार्म है फर्जी
 फर्जीवाड़े का मामला मात्र फार्म के शुल्क वसूली तक नहीं बल्कि कहीं अधिक बड़ा है। कुछ निजी फर्जी एजेसियों ने ऑनलाईन फार्म को डायवर्ट कर फर्जी फार्म बना...   Read More...

International News

Entertainment

FREE!!! Registration