बस्तर दशहरा चोरी हुआ रथ लेकर मंदिर लौटे राजा, बाहर रैनी रस्म पूरी

Sun, 25 Oct 2015 00:58:00 GMT

जगदलपुर। विश्व प्रसिद्ध बस्तर दशहरे की "बाहर रैनी' रस्म शनिवार को पूरी की गई। बीती रात सिरहासार से चोरी हुआ रथ राजा वापस लेकर आ गए हैं। शनिवार को राजा कुम्हड़ाकोट पहुंचे। यहां किलेपाल परगना के लोगों से चर्चा करने के बाद राजा ने नवाखाई रस्म अदा की। राजा ने लोगों के साथ भोजन किया। इसके बाद गाजे-बाजे के साथ वापस देर शाम रथ मंदिर पहुंचा। 75 दिनों तक चलने वाला यह उत्सव 27 अक्टूबर को समाप्त होगा।
 
 
रथ चोरी की ये है मान्यता
रथ चोरी करने की परम्परा वर्षों से चली आ रही है। ऐसी मान्यता है कि राज परिवार ने दशहरे की रस्मों में शामिल होने से माड़िया जनजाति को उपेक्षित किया था। इससे नाराज माड़िया लोग देर रात रथ को चोरी कर कुम्हड़ाकोट ले जाते हैं। फिर राजा इसे वापस मंदिर ले आते हैं।
 
मुरिया दरबार में आज सीएम होंगे रूबरू
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह रविवार को बस्तर दशहरा की मुरिया दरबार रस्म में शामिल होंगे। इस दौरान सीएम आमजन से रूबरू भी होंगे। परंपरा रही है कि बाहर रैनी के बाद बस्तर महाराज गांव-गांव से आए मांझी, मुखिया, नाईक, पाईक सहित अन्य लोगों की समस्या...   Read More...

International News

Entertainment

FREE!!! Registration