एलोविरा से उतारा जा सकेगा बुखार, नहीं होगा साइड इफेक्ट

Mon, 01 Feb 2016 01:27:00 GMT

ग्वालियर. एलोविरा यानी ग्वारपाठे से अब बुखार उतारा जा सकेगा। गजराराजा मेडिकल कॉलेज (जीआरएमसी) की फार्माकोलॉजी की विभागाध्यक्ष डॉ. सरोज कोठारी ने एलोविरा से बुखार उतारने की दवा तैयार की है।
 
ये दवा पूरी तरह हर्बल है। इससे मरीज को कोई साइड इफेक्ट नहीं होगा। आमतौर पर बुखार उतारने के लिए विशेषज्ञ द्वारा पैरासीटामोल दिया जाता है। इसके अधिक समय तक सेवन करने से किडनी और लिवर पर असर पड़ता है। 
 
रोगी का बुखार भी उतर जाए और उसे कोई नुकसान न पहुंचे इसी बात को ध्यान में रखकर डॉ. सरोज कोठारी ने एलोविरा से बुखार उतारने की पद्धति तैयार की है।  डॉ. सरोज कोठारी ने एलोविरा के पत्ते से छिलका हटाकर उसका गूदा (सकूलेंट) निकाला। इस गूदे को पीसकर पेस्ट बनाया। इस पेस्ट को रक्षा अनुसंधान एवं विकास स्थापना (डीआरडीई) की मदद से लायोफ्लाइज कराया। लायोफ्लाइज के जरिए पेस्ट को कूलिंग में इस तरह से ड्राई किया जाता है कि उसके कंटेंट अलग न हों। बने हुए सस्पेंशन का उपयोग बुखार उतारने के लिए किया।   Read More...

International News

Entertainment

FREE!!! Registration