इन्हें आया था राजीव गांधी का फोन, ढाई घंटे में बन गए थे कलेक्टर से MP

Mon, 26 Oct 2015 18:37:00 GMT

रायपुर। छत्तीसगढ़ अपनी स्थापना के 15 साल पूरे करने जा रहा है। 1 नवंबर 2000 की आधी रात को अजीत जोगी ने छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी। उन्होनें मुख्यमंत्री के तौर पर तीन साल तक प्रदेश की कमान संभाली थी। अजीत जोगी की राजनीति में एंट्री बड़ी रोचक रही थी। 
 
   
इस अवसर  dainikbhaskar.com आपको बताने जा रहा है  अजीत जोगी के जीवन से जुड़े  रोचक किस्सों के बारे में...
अजीत जोगी पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन की जमी-जमाई जॉब छोड़कर राजनीति में आए थे। ढाई घंटे के खेल में वे कलेक्टर से नेता बन गए थे। वह तब इंदौर के कलेक्टर थे। एक दिन ग्रामीण इलाके में दौरे के लिए गए थे। रात को जब घर लौटे तो पत्नी रेणु ने बताया कि प्रधानमंत्री कार्यालय से फोन आया था, पीएम राजीव गांधी बात करना चाह रहे थे। जोगी ने सोचा कि पीएम क्यों एक कलेक्टर को फोन करने लगे। इसके बाद रात करीब 9:30 बजे उन्होंने पीएम ऑफिस के नंबर पर फोन किया। राजीव गांधी के तत्कालीन पीए वी जॉर्ज ने फोन उठाया और कहा, 'कमाल करते हो यार, देश का प्रधानमंत्री तुमसे बात करना चाह रहा है और तुम गांव में घूम रहे हो।'...   Read More...

International News

Entertainment

FREE!!! Registration